विज्ञापन
विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें – 9721975000 *

आगामी लोकसभा चुनाव में मायावती का दलित वोट बैंक बनेगा विनिंग फॉर्मूला,जानें किस स्ट्रेटेजी पर हो रहा काम

लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2024 की धमक शुरू हो गई है। सभी पार्टियों का सबसे अधिक फोकस दलित वोटरों पर‌ नजर आ रहा है। भारतीय जनता पार्टी दलित सम्मेलन करने जा रही है तो वहीं कांग्रेस दलित गौरव संवाद अभियान,समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव दलित के घर खाना खा रहे हैं तो बहुजन समाज पार्टी भी इस अभिय़ान में पीछे नहीं है। अब सवाल उठता है कि आखिर एकाएक सभी पार्टियां दलित वोटरों को अपने पाले में लाने के लिए क्यों जुटी हैं। अहम सवाल यह है कि ये होगा कैसे और कौन सी पार्टी किस रणनीति के तहत ऐसा कर रही है।

भाजपा पूरे यूपी में दलित सम्मेलन करने जा रही है।इसमें पार्टी के आला नेता भी शामिल होंगे। इसके पीछे बड़ा मकसद ये है कि बसपा से टूटकर दलित वोट बैंक का जो हिस्सा उसके पाले में आ गया है वो बरकरार रहे। उसमें कोई और पार्टी सेंधमारी न करने पाये। हाल ही में मऊ जिले की घोसी सीट पर हुए विधानसभा के उपचुनाव के नतीजों ने उसके कान खड़े कर दिये हैं। घोसी में भाजपा की हार के पीछे बड़ा कारण यही मानी जा रहा है कि दलित वोट बैंक सपा की ओर चला गया।

बसपा ने चुनाव नहीं लड़ा था। जाटवों के अलावा दूसरी दलित जातियों ने भाजपा का दामन पिछले चुनावों में थाम लिया था। अब घोसी के नतीजे के बाद पार्टी को अपना ये वोट बैंक सहेजने की चिन्ता दिख रही है। चुनावी राजनीति पर काम करने वाली संस्था गिरि इंस्टिट्यूट ऑफ़ डेवेलपमेंट स्टडीस में असिस्टेण्ट प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक डॉ शिल्पशिखा सिंह का कहना है कि मायावती के कमजोर होने से दलित वोट बैंक नेतृत्वविहीन होता जा रहा है। भाजपा उन्हें प्रतिनिधित्व दे रही है जिससे वे उसके हो जायें।

समाजवादी पार्टी भी कोशिश में लगी है कि यदि दलित वोट बैंक उसके साथ पूरे मन से जुट जाये तो उसे कोई हरा नहीं सकता है। सपा को मालूम है कि सिर्फ यादव और मुस्लिम वोट बैंक से काम नहीं बनने वाला है। इन दोनों के साथ यदि दलित भी आ जायें तो उसकी बल्ले-बल्ले हो जायेगी। इसीलिए अखिलेश यादव ने बसपा के कई दलित नेताओं को अपने साथ लिया। सपा मिशन कांशीराम अभियान चला चुकी है। रायबरेली में अखिलेश यादव ने कांशीराम की मूर्ति का अनावरण किया। अखिलेश लगभग अपनी हर रैली में ये कहते सुने जा सकते हैं कि भाजपा आरक्षण को खत्म कर रही है। आरक्षण को लेकर सबसे ज्यादा मुखर दलित समुदाय रहता है।

अब बात बसपा की।बसपा के सामने सबसे बड़ी चुनौती अपने वोट बैंक को सहेजे रखना है। ये भी है कि जिस वोट बैंक ने उसका साथ छोड़ दिया है वे फिर से घर वापसी कर लें। मायावती को मिल रही लगातार हार के बावजूद जाटव वोट बैंक उनके पाले में बना हुआ है। उससे अलग होने वाला हिस्सा गैर जाटवों का है। मायावती को उसे सहेजना है।मायावती की एक और चिन्ता है जिसकी झलक घोसी के उपचुनाव में दिखी। मायावती को मालूम है कि यदि उनका कैण्डिडेट लड़ाई में नजर नहीं आयेगा तो उनके वोट बैंक में तगड़ी सेंधमारी हो जायेगी।घोसी में यही तो हुआ।

इन सबसे बड़ा सवाल तो ये है कि कांग्रेस आखिर क्यों दलितों पर डोरे डालने में जुटी है। यूपी में कांग्रेस ही एक ऐसी पार्टी है जिसका अपना कोई कोर वोटर अब नहीं बचा। किसी जमाने में कांग्रेस दलितों और मुसलमानों की बदौलत वो सत्ता में बनी रहती थी। समय के साथ दोनों ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया। अब कांग्रेस की कोशिश ये है कि जो वोटर सभी पार्टियों से खफा चल रहे हों उन्हें अपने पाले में किया जाये। इसीलिए दलित वोट बैंक को साधने के लिए पार्टी दलित गौरव संवाद अभियान चलाने जा रही है। कारण ये भी है कि यदि इंडिया गठबंधन में चुनाव लड़ना हुआ तो उसे सपा के कोर वोटरों के अलावा दूसरे वोट बैंक की भी जरूरत पड़ेगी। यदि वो ऐसे अभियान नहीं चलायेगी तो दलित वोट बैंक को क्या कहकर एड्रेस करेगी।

साल 2011की जनगणना के मुताबिक यूपी में 20 फीसदी दलित रहते हैं। वोटर का ये बहुत बड़ा सेगमेंट है।इस वोट बैंक की बदौलत कांग्रेस सत्ता में रही। फिर जब दलित उससे अलग हुए तो मायावती समय के साथ दूसरी पार्टियों ने भी अपना स्टैण्ड बदला और अपने परम्परागत वोट बैंक के साथ दलितों को साधने की शुरुआत की। इस वोट बैंक में सेंध भी लगी। इसी उम्मीद में फिर से सभी पार्टियां दलित वोट बैंक को अपने पाले में करने के लिए लालायित हो उठी हैं।

औरंगाबाद में मॉब लिंचिंग का मामला; कार सवार तीन लोगों की हत्या को लेकर 6 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, वीडियो फुटेज से हुई पहचान     |     ट्रेन हादसा होते होते टला, प्लेटफॉर्म के पास मालगाड़ी के पहिए पटरी से उतरे, रेलवे टीम राहत-बचाव में जुटी     |     पुलिस और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड़ में बावरिया गिरोह के 8 सदस्य को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 6 हुए फरार     |     हत्यारा बना रूम पार्टनर; मामूली सी बात पर युवक की रस्सी से गला घोंटकर हत्या     |     हरणी झील में बड़ा हादसा; नाव पलटने से दो शिक्षकों और 13 छात्रों समेत 15 की हुई मौत      |     सरप्राइज देने के लिए पहाड़ी पर गर्लफ्रेंड को बुलाया, फिर चाकू से गला काटकर कर दी हत्या     |     बीमार ससुर से परेशान बहू ने उठाया खौफनाक कदम गला दबाकर की हत्या, आरोपी महिला को पुलिस ने किया गिरफ्तार     |     हत्यारों ने हैवानियत की हदें की पार,मां-बेटी की गला रेतकर बेरहमी से हत्या,शव के साथ हुई बर्बरता,शव देखकर कांप गए देखने वाले     |     अजब गजब:जीवित रहते हुए की अपनी तेरहवीं,तेरहवीं में शामिल हुआ पूरा गांव, 2 दिन बाद हुई मौत,हर कोई रह गया दंग     |     सपा को एक और बड़ा झटका, हत्या के मामले में लोकसभा क्षेत्र के प्रभारी को उम्रकैद की सजा     |     नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में शहीद जवान का हुआ अंतिम संस्कार, गांव में नहीं जले चूल्हे     |     अगर विधानसभा भंग हुई तो, तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को दे डाली खुली चुनौती     |     प्रयागराज-मिर्जापुर मार्ग पर भीषण सड़क हादसा; बोलेरो और कंटेनर की हुई भिडंत, दो की मौत आठ लोग हुए घायल     |     कलयुगी मां का रहस्य जान गया मासूम बेटा, तो मां ने समलैंगिक पार्टनर संग रची खौफनाक साजिश     |     शादी के चौथे दिन बाद पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर पति को उतारा मौत के घाट     |     यूपी में मुस्लिमों को रिझाने के लिए भाजपा करेगी उर्दू और अरबी भाषा में प्रचार, जानें क्या है प्लान     |     बाइक पर सवार थे तीन व्यक्ति,चेकिंग में रोका तो दंग रह गई पुलिस,बरामद हुई करोड़ों की मार्फीन     |     कलक्ट्रेट में किसान ने खुद को लगाई आग,मचा हड़कंप, मौके पर पहुंची पुलिस     |     लोकसभा चुनाव से पहले सपा को लगा एक और तगड़ा झटका,राष्ट्रीय सचिव योगेन्द्र सिंह ठाकुर ने दिया इस्तीफा     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9721975000