प्रो.शिवकांत ओझा ने सपा छोड़ फिर से पहना भगवा चोला, दिल्ली भाजपा मुख्यालय पहुँचकर भाजपा में हुए शामिल, रानीगंज से उम्मीदवार बनाये जाने की संभावना

सपा सुप्रीमों अखिलेश यादव द्वारा टिकट वितरण में अनदेखी किये जाने के बाद बढ़ी प्रोफेसर शिवाकांत ओझा की नाराजगी, राजनीति की जहाँ से शुरुवात किये थे, उस घर में  वापस लौटे प्रोफेसर शिवाकांत ओझा

नई दिल्ली। यूपी के प्रतापगढ़ जिले से पूर्व मंत्री प्रो. शिवाकांत ओझा ने समाजवादी पार्टी छोड़ दिया है। 27 जनवरी, 2022 को उन्होंने दिल्ली में भाजपा ज्वाइन कर लिया। भाजपा के यूपी प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान ने प्रो. शिवाकांत ओझा को भाजपा की सदस्यता दिलाई। प्रो. शिवकांत ओझा के भाजपा में शामिल होने के बाद समझा जा रहा है कि भाजपा उन्हें रानीगंज से उम्मीदवार बना सकती है। प्रो. ओझा रानीगंज से चार बार विधायक रह चुके हैं। इनमें से तीन बार वह भाजपा के ही टिकट पर विधायक चुने गये थे। वर्ष-2012 में वह समाजवादी पार्टी में शामिल हो गये थे और सपा के टिकट पर विधायक चुने गये थे।

वर्ष-2009 में भाजपा से एकमात्र लोकसभा उम्मीदवार बनने की संभावना के बाद भी प्रो. शिवकांत ओझा बसपा में चले गए। भाजपा को लक्ष्मी नारायण पाण्डेय उर्फ गुरूजी को सपा से भाजपा में शामिल कराना पड़ा और वर्ष-२००९ में उम्मीदवार बनाना पड़ा था। प्रो. शिवकांत ओझा वर्ष-2007 में बसपा उम्मीदवार राम शिरोमणि शुक्ल से विधानसभा चुनाव हार गए थे। वर्ष-लोकसभा चुनाव-2009 में बसपा उम्मीदवार बने और चुनाव में मुंह की खा गए। बसपा से लोकसभा चुनाव परिणाम बाद बसपा से प्रो. शिवकांत ओझा सपा में साइकिल की सवारी कर लिए और उन्हें सपा ने वर्ष-2012 में अपना उम्मीदवार बनाया। एक तरह से बीरापुर से परिवर्तित होकर रानीगंज विधानसभा से प्रो. शिवकांत ओझा पहले विधायक बने। अखिलेश सरकार में प्रो. शिवकांत ओझा कैबिनेट मंत्री बने।

समाजवादी पार्टी से टिकट कटने के बाद प्रो शिवकांत ओझा 24 घण्टे के भीतर भाजपा मुख्यालय दिल्ली पहुँच गए और घर वापसी कर लेने में अपना राजनैतिक भविष्य सुरक्षित समझा। अब भाजपा विधायक धीरज ओझा के लिए सबसे बड़ा खतरा प्रो. शिवकांत ओझा बनकर उभरे हैं। फिलहाल प्रो. शिवाकांत ओझा के भाजपा में शामिल होने के बाद उनके समर्थकों में खुशी की लहर देखी जा रही है। 25 जनवरी, 2022 की शाम समाजवादी पार्टी ने प्रो. शिवाकांत ओझा को दरकिनार कर आपराधिक छवि के विनोद दुबे को प्रत्याशी घोषित कर दिया था। 26 जनवरी, 2022 को प्रो. ओझा ने अखिलेश यादव से लखनऊ में मिलकर आपत्ति भी जताई थी। पर अखिलेश यादव ने उन्हें कोई खास तवज्जो नहीं दी थी। इससे वह काफी नाराज थे।

अंतत: भाजपा ने मौके की नजाकत को देखते हुए प्रो. शिवकांत ओझा को पार्टी ज्वाइन करा दी। प्रो. शिवाकांत ओझा के भाजपा में शामिल हो जाने के बाद प्रतापगढ़ की सियासी गुणा-गणित में बडा बदलाव देखने को मिल रहा है। मुख्यमंत्री कल्याण सिंह से प्रो. शिवकांत ओझा के बड़े अच्छे सम्बन्ध थे। कल्याण सिंह ने प्रो. शिवकांत ओझा को कलराज मिश्र के समकक्ष नेता बनाना चाहते थे। भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से प्रो. शिवकांत ओझा के सम्बन्ध भाजपा से बाहर होने के बाद भी बना रहा। भाजपा से बाहर होते हुए भी संघ में गुरु दक्षिणा आदि कार्यक्रम में प्रो. शिवकांत ओझा भाग लेते रहे।

प्रतापगढ़ जनपद में भाजपा के फायर ब्रांड नेताओं में प्रो. शिवकांत ओझा का नाम आता था। स्वर्गीय कल्याण सिंह जी के बहुत करीबी नेता थे और राममंदिर आंदोलन में सक्रिय रहे। जब स्वर्गीय कल्याण सिंह जी ने स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी जी से मतभेद के चलते मुख्यमंत्री पद और भारतीय जनता पार्टी छोड़ी थी तो बीबीसी के संवाददाता ने स्वर्गीय कल्याण कल्याण सिंह जी से पूंछा कि अब बीजेपी से मुख्यमंत्री कौन बनेगा ? इस पर स्वर्गीय कल्याण सिंह जी का जवाब था कि यह तो किसी पार्टी के हाई कमान या विधायक दल का निर्णय होता है। अतः इस पर टिप्पणी करना उचित नहीं है, लेकिन बात योग्यता की हो तो भारतीय जनता पार्टी को प्रोफेसर शिवाकांत ओझा को मुख्यमंत्री बनाना चाहिए।

उस समय तब स्वर्गीय राम प्रकाश गुप्ता जी मुख्यमंत्री बने थे। उसके बाद राजनाथ सिंह जी मुख्यमंत्री बने। प्रो. शिवकांत ओझा पहली बार वर्ष-1991 में पट्टी विधानसभा से भाजपा से ही विधायक बने थे। वर्ष-1993 का चुनाव हार गए थे। वर्ष-1996 के विधानसभा चुनाव में प्रोफेसर शिवाकांत ओझा को पट्टी से हटाकर बीरापुर भेज दिया गया था। वर्ष-1996 के चुनाव में बीरापुर से विजयी रहे और कल्याण सिंह सरकार में कैबिनेट मंत्री बने। वर्ष-2002 के विधानसभा चुनाव में भी भाजपा से बीरापुर से विधायक बने। बसपा की सोशल इंजीनियरिंग के आगे वर्ष-2007 में बसपा उम्मीदवार राम शिरोमणि शुक्ल से प्रोफेसर शिवाकांत ओझा विधानसभा चुनाव हार गए थे।

नए परिसीमन में बीरापुर सीट खत्म हो गयी थी, उसी का नाम रानीगंज हो गया। बसपा में जो सोचकर प्रोफेसर शिवाकांत ओझा शामिल हुए थे, वह उनके विचार से मेल नहीं खाया और वह सार्वजनिक रूप से स्वीकार किये कि वह उनकी पहली राजनैतिक भूल थी। भाजपा का जनाधार कहीं से बढ़ नहीं रहा था। इसलिए प्रोफेसर शिवाकांत ओझा सपा में शामिल हो गए और वर्ष-2012 में सपा के टिकट से पुनः विधायक बने और अखिलेश सरकार में मंत्री भी बने। बीच में अखिलेश यादव ने प्रोफेसर शिवाकांत ओझा को अपने मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया था। वर्ष-2016 में प्रोफेसर शिवाकांत ओझा दोराहे पर खड़े हो गए। उनके सामने ऐसा दौर आया कि एक तरफ उन्हें सपा सरकार में मंत्री बनना था, दूसरी तरफ बीजेपी में शामिल होंने का अवसर मिल रहा था।

वह राजनीतिक निर्णय लेने में दूसरी बार भूल कर दी और वह फिर अखिलेश सरकार में स्वास्थ्य मंत्री बन गए। वर्ष-2017 का विधानसभा चुनाव लड़ने का उन्हें भाजपा ने ऑफर किया, मगर वह तीसरी बार चूक कर गए। अन्यथा भाजपा से वर्ष-2017 का चुनाव जीतकर मंत्री बनते। प्रोफेसर शिवाकांत ओझा की राजनैतिक समझ यह थी कि धीरज ओझा यदि भाजपा से उनके सामने लड़ते हैं तो वह चुनाव जीत जायेंगे। प्रोफेसर शिवाकांत ओझा इस बार भी गलत आंकलन कर बैठे और सपा से चुनाव लड़कर बीजेपी लहर में चुनाव हार गए। विधायक धीरज ओझा रानीगंज से विधायक बन गए।

पहली बार भाजपा के टिकट से विधायक बने धीरज ओझा युवा नेताओं में से एक हैं और मिलनसार भी हैं। फिर भी कुछ आदत उनकी ऐसी रही जिससे विधानसभा क्षेत्र में उनकी छवि जन विरोधी होती गई। विधानसभा चुनाव-२०२२ की अधिसूचना से पहले रानीगंज से विधायक धीरज ओझा का टिकट कटने की आशंका ब्यक्त की जाने लगी। मीडिया में यह बात आने लगी कि प्रोफेसर शिवाकांत ओझा की घर वापसी हो सकती है और वह भाजपा के उम्मीदवार हो सकते हैं। इसी बीच प्रोफेसर शिवाकांत ओझा के रानीगंज विधानसभा क्षेत्र में एक जनसभा में मंच पर ही पूर्व विधायक श्याद अली से मारपीट हो गई। जिसके बाद पूर्व विधायक श्याद अली और उनके समर्थकों सहित बृजेश यादव के कुछ समर्थक सपा सुप्रीमों से शिकायत किये कि प्रोफेसर शिवाकांत ओझा को टिकट दिया गया तो वह लोग उनका पुरजोर विरोध करेंगे। इस मुहिम में शकील अहमद भी शामिल हो गए। जब रानीगंज विधानसभा के लिए टिकट देने की बारी आई तो बाजी तीसरा ब्यक्ति मार ले गया।

प्रोफेसर शिवाकांत ओझा वाच एंड वेट की स्थिति में टिकट की घोषणा का इंतजार करने लगे। वर्ष-2022 के विधानसभा चुनाव में सपा ने उनका टिकट काट दिया तो वह मानो पेड़ से गिर गए हों ! प्रोफेसर शिवाकांत ओझा अपने पुत्र श्यामू ओझा के साथ आज नई दिल्ली पहुँचकर भाजपा में शामिल होकर राजनीति की जहाँ से शुरुवात किये थे, उस घर में लौट आए। अभी प्रोफेसर शिवाकांत ओझा के तमाम सहयोगी भाजपा में जाने के लिए वेताब हैं। परन्तु सबकी नजर रानीगंज विधानसभा से भाजपा के उम्मीदवार पर टिकी हुई है। मजे की बात यह है कि सपा, बसपा और कांग्रेस से जितने नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं, वह सब दिल्ली जाकर ही भगवाधारी हो रहे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि उत्तराखंड के गंगोत्री से पवित्र गंगाजल लाकर भाजपा मुख्यालय रखा हुआ है। दूसरे दल के जो भी नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं, उन्हें भगवा धारण करने से पहले पवित्र गंगा जल से नहला धुलाकर पवित्र किया जा रहा है।

औरंगाबाद में मॉब लिंचिंग का मामला; कार सवार तीन लोगों की हत्या को लेकर 6 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, वीडियो फुटेज से हुई पहचान     |     ट्रेन हादसा होते होते टला, प्लेटफॉर्म के पास मालगाड़ी के पहिए पटरी से उतरे, रेलवे टीम राहत-बचाव में जुटी     |     पुलिस और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड़ में बावरिया गिरोह के 8 सदस्य को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 6 हुए फरार     |     हत्यारा बना रूम पार्टनर; मामूली सी बात पर युवक की रस्सी से गला घोंटकर हत्या     |     हरणी झील में बड़ा हादसा; नाव पलटने से दो शिक्षकों और 13 छात्रों समेत 15 की हुई मौत      |     सरप्राइज देने के लिए पहाड़ी पर गर्लफ्रेंड को बुलाया, फिर चाकू से गला काटकर कर दी हत्या     |     बीमार ससुर से परेशान बहू ने उठाया खौफनाक कदम गला दबाकर की हत्या, आरोपी महिला को पुलिस ने किया गिरफ्तार     |     हत्यारों ने हैवानियत की हदें की पार,मां-बेटी की गला रेतकर बेरहमी से हत्या,शव के साथ हुई बर्बरता,शव देखकर कांप गए देखने वाले     |     अजब गजब:जीवित रहते हुए की अपनी तेरहवीं,तेरहवीं में शामिल हुआ पूरा गांव, 2 दिन बाद हुई मौत,हर कोई रह गया दंग     |     गर्लफ्रेंड ने शादी से किया इनकार तो आपत्तिजनक वीडियो सोशल मीडिया पर किया पोस्ट, दी एसिड अटैक की धमकी     |     नाबालिग को घर पर बुलाकर करता था कुकर्म, ब्लैकमेलिंग से तंग आकर उतार दिया मौत के घाट     |     बाराबंकी में UP STF की बड़ी कार्रवाई; साइबर ठगों के ऑर्गेनाइज्ड गैंग का खुलासा, 6 आरोपी गिरफ्तार     |     रंजिश में हिस्ट्रीशीटर की बेरहमी से हत्या, पहले कार से मारी टक्कर, फिर उतारा मौत के घाट     |     बलिया से क्या भाजपा लगा पाएगी जीत की हैट्रिक,या सपा-बसपा का ब्राह्मण-यादव फैक्टर बनेगा रोड़ा     |     Loksabha_Election_2024: आईये जाने सूबे की संत कबीर नगर लोकसभा सीट का संसदीय इतिहास, वहां का जातिगत समीकरण और चुनावी आंकड़ों की गुणा-गणित     |     Loksabha_Election_2024: आईये जाने सूबे की बस्ती लोकसभा सीट का संसदीय इतिहास, वहां का जातिगत समीकरण और चुनावी आंकड़ों की गुणा-गणित     |     पुलिस अभिरक्षा से भागे युवक का मिला शव, परिजनों ने जताई हत्या की आशंका     |     व्यापारी को सट्टा माफिया के खिलाफ पुलिस में शिकायत करना पड़ा भारी, सट्टा माफियाओ ने झूठे मुकदमे में फंसाकर जेल भिजवाने की दी धमकी     |     लखनऊ में बेखौफ बदमाश, रिटायर्ड डीएम के घर में बदमाशों ने की लूट, लूट के बाद की पत्नी की हत्या     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9721975000