विज्ञापन
विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें – 9721975000 *

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर, शिंदे सरकार में शामिल हुए अजित पवार, बने डिप्टी सीएम, सरकार में आठ मंत्री शामिल

महाराष्ट्र की राजनीति में उथल-पुथल जारी है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के चहेते नेता अजित पवार ने आखिरकार पार्टी का साथ छोड़ दिया। उन्होंने भाजपा का दामन थाम लिया है। आईए जाने कि आखिर ऐसा क्या हो गया जो भतीजे ने चाचा का साथ छोड़ दिया। शिवसेना-भाजपा गठबंधन में दरार की खबरों के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के खास कहे जाने वाले शरद पवार के भतीजे और विपक्ष के नेता अजित पवार ने अपनी पार्टी को झटका दे दिया है। वे एनसीपी का दामन छोड़ अब एनडीए यानी महाराष्ट्र की शिंदे सरकार में शामिल हो गए हैं। उन्होंने रविवार दोपहर डिप्टी सीएम की शपथ भी ले ली। एनसीपी में दरार उस समय शुरू हुई, जब पार्टी का 25वां स्थापना दिवस समारोह मनाया जा रहा था।
दरअसल, एनसीपी के स्थापना दिवस समारोह में अध्यक्ष शरद पवार ने बड़ा एलान किया था। शरद पवार भी संतान मोह से वंचित न रह सके। उन्होंने अपने भतीजे को किनारे करते हुए पार्टी की पूरी कमान अपने राजनैतिक  उत्ताधिकारी  के तौर पर अपनी बेटी सुप्रिया सुले को दे देने में भलाई समझी। साथ ही पार्टी में बैलेंस बनाये रखने के लिए शरद पवार ने पार्टी के उपाध्यक्ष प्रफुल्ल पटेल को कार्यकारी अध्यक्ष घोषित किया था। जबकि भतीजे अजित पवार को लेकर कोई ऐलान नहीं किया। शरद पवार की ओर से हुए ऐलान में सुप्रिया सुले को महाराष्ट्र, हरियाणा और पंजाब की जिम्मेदारी भी दी गई। 

 

आईये जाने एनसीपी में अब तक क्या-क्या हुआ ?

 

महाराष्ट्र के राजनीति जानने से पहले यह जानना जरुरी है कि महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना का गठबंधन हुआ करता था और दोनों पार्टियां मिलकर दो बार सरकार भी बना चुकी हैं। साल-2019 के विधानसभा चुनाव में भाजपा और शिवसेना गठबंधन को पूर्ण बहुमत मिला, परन्तु मुख्यमंत्री पड़ को लेकर दोनों पार्टियों के नेताओं में तालमेल न बैठ सका तो शिवसेना सुप्रीमों उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पड़ की चाहत में कांग्रेस और एनसीपी से गठबंधन कर सरकार बना लिए और अपने पुराने सहयोगी पार्टी भाजपा को दांव देते हुए जोर का झटका धीरे से दिया।  

इस सियासी बदलाव की कहानी नवंबर- 2019 से शुरू हुई थी। तब विधानसभा चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। भाजपा को 105 सीटों पर जीत मिली थी। शिवसेना के 56 और एनसीपी के 54 प्रत्याशी चुनाव जीते थे। कांग्रेस को 44 सीटों पर जीत मिली थी। भाजपा के साथ चुनाव लड़ने वाली शिवसेना ने मुख्यमंत्री के मुद्दे पर गठबंधन तोड़ लिया। भाजपा भले ही सबसे बड़ी पार्टी थी, लेकिन बहुमत के आंकड़ों से दूर थी। बहुमत के लिए पार्टी को 145 विधायकों का समर्थन चाहिए था। आनन-फानन में अजित पवार ने एनसीपी का समर्थन दे दिया और देवेंद्र फडणवीस सीएम बन गए। अजित पवार ने डिप्टी सीएम का पद की शपथ ली।

पद की चाहत और अति महत्येवाकांक्षा में अजित पवार ने सारे निर्णय स्वयं के बल पर लिया था। इसके लिए उन्होंने पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार की मंजूरी भी नहीं ली थी। कुल मिलाकर ये एक तरह से बगावत ही थी। इसका असर हुआ कि पांच दिन के अंदर ही एनसीपी ने अपना समर्थन वापस ले लिया। अजित चाहते हुए भी भाजपा के साथ नहीं जा पाए। देवेंद्र फडणवीस की सरकार गिर गई। उधर एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस ने मिलकर सरकार बना ली। उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बनाए गए, जबकि अजित पवार को डिप्टी सीएम का पद फिर से मिल गया। जब शिवसेना में दो फाड़ हुआ और वापस भाजपा की सरकार बनी तो अजित पवार गुट में हलचल तेज हो गई। कई एक्सपर्ट कहते हैं कि अजित पवार गुट चाहता था कि भाजपा के साथ मिलकर महाराष्ट्र में राजनीति करें, जबकि शरद पवार ऐसा नहीं चाहते थे।

एनसीपी के अध्यक्ष पद से 2 मई को शरद पवार ने अचानक इस्तीफा दे दिया। 24 घंटे तक इसको लेकर खूब गहमा-गहमी रही। बाद में नेताओं के कहने पर पवार ने अपना इस्तीफा वापस भी ले लिया। हालांकि, तभी ये तय हो गया था कि शरद पवार पार्टी में कुछ बड़ा करने वाले हैं। पार्टी के 25वें स्थापना दिवस समारोह पर शरद पवार ने दो कार्यकारी अध्यक्ष के नामों का एलान किया। इसमें एक बेटी सुप्रिया सुले हैं तो दूसरे पार्टी के उपाध्यक्ष प्रफुल्ल पटेल का नाम है। सुप्रिया को केंद्रीय चुनाव समिति का प्रमुख भी बनाया गया। इस दौरान अजित को लेकर कोई एलान नहीं किया गया। बस यही वह वजह थी, जिससे अजित पवार नाराज हुए और वह बगावत करने का फैसला अंदर ही अंदर ले लिया।

 

चाचा शरद पवार से नाराज थे,अजित पवार…

 

पार्टी सुप्रीमों शरद पवार के निर्णय से भतीजे अजित पवार  की नाराजगी  जब सार्वजानिक हुई तो राजनीतिक गलियारों में चर्चा शुरू हुई थी कि अजित पवार कहीं अपने समर्थक विधायकों के साथ भाजपा में जा सकते हैं और शिंदे सरकार में शामिल हो सकते हैं। हालांकि, पार्टी लगातार इस पर पर्दा डालती रही। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता अजित पवार ने हाल ही में मीडिया में आई उन खबरों को खारिज कर दिया था, जिनमें कहा जा रहा था कि सुप्रिया सुले और प्रफुल्ल पटेल को संगठन का कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने से वह नाखुश हैं। अजित पवार ने कहा था कि जो लोग कह रहे हैं कि कोई जिम्मेदारी नहीं मिली, मैं उन्हें बताना चाहूंगा कि मेरे पास महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता की जिम्मेदारी है। वहीं, शरद पवार ने भी कहा था कि अजित नाराज क्यों होंगे। उनकी सहमति से ही सब फैसले लिए गए हैं। हालांकि, अब साफ हो गया है कि अजित पवार पार्टी से नाखुश थे। उनके नाखुश होने वाली बात अफवाह नहीं बल्कि सच थी।

औरंगाबाद में मॉब लिंचिंग का मामला; कार सवार तीन लोगों की हत्या को लेकर 6 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, वीडियो फुटेज से हुई पहचान     |     ट्रेन हादसा होते होते टला, प्लेटफॉर्म के पास मालगाड़ी के पहिए पटरी से उतरे, रेलवे टीम राहत-बचाव में जुटी     |     पुलिस और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड़ में बावरिया गिरोह के 8 सदस्य को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 6 हुए फरार     |     हत्यारा बना रूम पार्टनर; मामूली सी बात पर युवक की रस्सी से गला घोंटकर हत्या     |     हरणी झील में बड़ा हादसा; नाव पलटने से दो शिक्षकों और 13 छात्रों समेत 15 की हुई मौत      |     सरप्राइज देने के लिए पहाड़ी पर गर्लफ्रेंड को बुलाया, फिर चाकू से गला काटकर कर दी हत्या     |     बीमार ससुर से परेशान बहू ने उठाया खौफनाक कदम गला दबाकर की हत्या, आरोपी महिला को पुलिस ने किया गिरफ्तार     |     हत्यारों ने हैवानियत की हदें की पार,मां-बेटी की गला रेतकर बेरहमी से हत्या,शव के साथ हुई बर्बरता,शव देखकर कांप गए देखने वाले     |     अजब गजब:जीवित रहते हुए की अपनी तेरहवीं,तेरहवीं में शामिल हुआ पूरा गांव, 2 दिन बाद हुई मौत,हर कोई रह गया दंग     |     कंगना रनौत के खिलाफ मंडी से चुनाव लड़ेंगे विक्रमादित्य सिंह, मां प्रतिभा सिंह का ऐलान     |     अवैध संबंध के शक में पति ने पत्नी की चाकू से गोदकर की हत्या, पुलिस ने पति को किया गिरफ्तार     |     केमिकल कारोबारी की हत्या में शामिल 25 हजार का ईनामी नौकर को पुलिस ने एनकाउंटर के बाद किया गिरफ्तार     |     ईरान के कब्जे में 17 भारतीय इजरायल के साथ तनाव के बीच खामेनेई की कुख्यात आर्मी का बने शिकार     |     सड़क पर अर्धनग्न होकर एक दूसरे पर जमकर फेंक रहे थे शराब, पुलिस ने उतार दिया सारा नशा     |     मेरठ पुलिस के मना करने पर भी ईद पर नमाजियों ने सड़क पर पढ़ी थी नमाज, अब हुई बड़ी कार्रवाई     |     माफिया अतीक और अशरफ की बेनामी संपत्ति का खुलासा, आठ हजार कमाने वाला सफाईकर्मी निकला आठ करोड़ का मालिक, मिले अहम सुराग     |     Loksabha Election 2024: मुजफ्फरनगर सीट का राजनीतिक इतिहास, वहां का जातिगत समीकरण और चुनावी आंकड़ों की गुणा गणित     |     Bijnor Lok Sabha Elections 2024: उत्तर प्रदेश की बिजनौर लोकसभा क्षेत्र की गुणा गणित      |     महेंद्रगढ़ हादसे के बाद जागा प्रशासन, अब 48 घंटे में होगी 2600 स्कूल बसों की जांच     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9721975000